Search This Blog

Sunday, July 5, 2020

..आँखे बंद कर ली है


हाँ जी हाँ मैंने तो आँखे बंद कर ली है
अंधकार का मुझपर चढ गया ऐसा नशा
मै तो भूल गई उजियाला और शीशा
कही अनकही के अंध विश्वास से से सँजोया
मै तो भूल गई मेरा आत्मविश्वास है खोया
इसीलिए, हाँ जी हाँ मैने तो आँखे बंद कर ली है

सच्चाई और गहराई से मुझे क्या लेना
मैंने तो झूठ को ही अपना ख़ुदा है माना
उसी ख़ुदा से जुड़े रहने का मन मे है ठाना
पर उसके न होने का सच मुझे नही मानना
इसीलिए, हाँ जी हाँ मैने तो आँखे बंद कर ली है

झूठ के अंधकार के सामने हाथ फैलाकर
मन्नत मांगती हूँ मेरा सदा भला ही कर
मन के प्रश्नो को कभी न देखा सुलझाकर
शांति कैसे मिलेगी ख़ुद को ही डराकर
इसीलिए, हाँ जी हाँ मैने तो आँखे बंद कर ली है

दूसरों का भला अब मुझे चुबने लगा है
किसी की अच्छाई को कभी सराहा नहीं है
पर बुराइयों पर ताना मारना छोड़ा नहीं है
मेरे विचारों की नय्या अंधकार में तैर रही है
इसीलिए, हाँ जी हाँ मैने तो आँखे बंद कर ली है
- राणी अमोल मोरे 

4 comments:

  1. गहरी भावनाओं से सजी हुई बेहतरिन कविता ।

    ReplyDelete
  2. Sabhi common logo ki sacchai yahi hai... Sahi galat Sab ko pata hai phir bhi aankhe band kar li hai... Nice

    ReplyDelete
  3. Sabhi common logo ki sacchai yahi hai... Sahi galat Sab ko pata hai phir bhi aankhe band kar li hai... Nice
    -rushikesh mahale

    ReplyDelete
  4. ������nice poetry

    ReplyDelete

Your valuable comments are highly appreciated and very much useful to further improve contents in this Blog.

Recent Posts

पर्यावर्णिय बदल, मानसाच्या जाती आणि आरक्षणे

सध्या परिस्थितीचा विचार लक्षात घेता असे दिसून येते की मानसाला भविष्यामध्ये स्वत:ला माणूस म्हणून टिकून राहण्यापेक्षा स्वत:च्या जाती धर्मांची ...

Most Popular Posts