Search This Blog

Friday, August 28, 2020

...मन नही



खुले है दरवाजे फिर से आज
लेकिन बाहर जाने का मन नही
मिले है लोग अरसे बाद
लेकिन हात मिलाने का मन नहीं

खिली है ताजी हवा बहुत दिनों बाद
लेकिन खुलकर साँस लेने का मन नहीं
त्यौहार तो इस साल भी आ रहे है
लेकिन खुशियाँ संजोने का मन नहीं

जीने से ज्यादा सफाई में वक्त जा रहा है
लेकिन अनदेखा करने का मन नहीं
बाहर की सफाई तो बहोत कर ली
लेकिन अंदर की सफाई का मन नहीं

प्रकृति बदलाव सीखा के गई
लेकिन बदलने का मन नहीं
प्रकोप तो सबके लिए एक है
लेकिन समझने का मन नहीं

- रानमोती / Ranmoti

8 comments:

  1. Behatarin 👌👌👌👍👍👍

    ReplyDelete
  2. Nice poem nice discription of today's life

    ReplyDelete
  3. Nice. These are fact due to present situation

    ReplyDelete
  4. मन तो है बहोत कुछ करने का , पर समा ऐसा के धीरज नहीं; वक्त ले रहा है कुछ ऐसा इम्तिहान, कारवा ऐसा के घने बादल ही है, सूरज नाही

    ReplyDelete

Your valuable comments are highly appreciated and very much useful to further improve contents in this Blog.

Recent Posts

पर्यावर्णिय बदल, मानसाच्या जाती आणि आरक्षणे

सध्या परिस्थितीचा विचार लक्षात घेता असे दिसून येते की मानसाला भविष्यामध्ये स्वत:ला माणूस म्हणून टिकून राहण्यापेक्षा स्वत:च्या जाती धर्मांची ...

Most Popular Posts